महान बिल गेट्स की जीवनी Bill Gats Biography In Hindi

दोस्तों आज हम पढ़ेंगे महान बिल गेट्स की जीवनी Bill Gats Biography In Hindi.

नाम ⇨ बिल गेट्स (Bill Gets)

पूरा नाम ⇨ विलियम हेनरी गेट्स

जन्म ⇨ 28 अक्टूबर 1955

स्थान ⇨ सीएटल वाशिंगटन “यूनाइटेड स्टेट्स”

आवास ⇨ सयुंक्त राज्य अमेरिका

व्यवसाय ⇨ माइक्रोसॉफ्ट के अध्यक्ष

पत्नी ⇨ मेलिण्डा गेट्स

बच्चे ⇨ तीन

माता ⇨ मैरी मैक्सवेल गेट्स

पिता ⇨ विलियम H. गेट्स

आज हम फिर एक बार आपके समक्ष एक ऐसे मनुष्य की जीवनी लेकर आये है जिन्होंने अपने जीवन को सफल बनाने के लिए बहुत कड़ी मेहनत की और शिखर पर पहुंचे सिर्फ  और सिर्फ अपनी मेहनत की वजह से। जी हाँ दोस्तों हम बात करने जा रहे है इन्ही साहब की जिनकी छवि आप ऊपर देख  रहे है इस महान शख्शियत का नाम है श्रीमान बिल गेट्स चलिए मेरे मित्रो इनकी ज़िंदगी के कुछ पन्ने जानते है जिनमें इनकी कड़ी मेहनत से लेकर सफलता तक की कहानी दर्शायी गयी है

Bill Gats Biography In Hindi
Bill Gats Biography In Hindi  –
महान बिल गेट्स परिवार के बारे में

इनके परिवार में इनके अतिरिक्त चार और सदस्य थे -इनके पिता विलियम H गेट्स जो की एक मशहूर वकील थे ,इनकी माता मैरी मैक्सवेल गेट्स जो प्रथम इंटरस्टेट बैंक सिस्टम और यूनाइटेड way के निर्देशक मंडल की सदस्य थी

तथा इनकी 2 बहने जिनका नाम  क्रिस्टी और लिब्बी है बिल गेट्स  ने अपने बचपन का भी भरपूर आनंद लिया तथा पढ़ाई के साथ साथ खेल कूद में सक्रीय रूप से भाग लेते रहे।  उनके माता-पिता उनके लिए कानून में करियर बनाने का स्वप्न लेकर बैठे थे। लेकिन उन्हें बचपन से कंप्यूटर और उसकी प्रोग्रामिंग भाषाओं में रूचि थी।

Bill Gats Biography In Hindi

उनकी प्रारंभिक शिक्षा लेकसाइड स्कूल में हुयी जब वह आठवीं कक्षा के छात्र थे। तब उनके विद्यालय ने A.S.R33 दूरटंकन टर्मिनल तथा जरनल इलेक्ट्रिक कंप्यूटर पर एक कंप्यूटर प्रोग्राम खरीदा जिसमें बिल गेट्स  ने रूचि दिखाई।

उसके बाद तेरह वर्ष की आयु में उन्होंने अपना पहला कंप्यूटर प्रोग्राम लिखा जिसका नाम  टिक-टेक-टोए “Tic-Tec-Toe” और इसका प्रयोग कंप्यूटर से खेल खेलने के लिए किया जाता था।  बिल गेट्स  इस मशीन से बहुत प्रभावित थे तथा जानने को उत्सुक थे। की यह सॉफ्टवेयर कोड्स किस प्रकार कार्य करते है।

कंप्यूटर प्रोग्रामिंग के प्रति Bill Gats की रूचि 

इसके पश्चात Bill Gats “DEC” “PDP” और मिनी कंप्यूटर नामक सिस्टमों में रूचि  दिखाते रहे परन्तु उन्हें कंप्यूटर सेण्टर कारपोरेशन द्वारा ऑपरेटिंग सिस्टम में हो रही  खामियों के लिए एक महीने के लिए प्रतिबंध कर दिय  गया।

इसी समय उन्होंने अपने मित्रों  के साथ मिलकर CCC के सॉफ्टवेयर में हो रही कमियों को दूर कर के लोगों को प्रभावित  किया तथा उसके ततपश्चात वह CCC के कार्यलय में निरंतर जाकर विभिन प्रोग्रामों के  लिए  सोर्स कोड का अध्यन करते रहे और यह सिलसिला लघभग 1970 तक चलता रहा। 

मात्र 17 वर्ष की आयु में उन्होंने अपने मित्र एलन के साथ मिलकर ट्राफ-ओ डाटा नामक एक  उपक्रम बनाया जो इंटेल 8008 प्रोसेसर पर आधारित यातायात काउंटर बनाने के लिए प्रयोग में लाया गया। 1973 में वह लेकसाइड स्कूल से पास हुए तथा उसके बाद हारवर्ड कॉलेज में उनका दाखिला हुआ परतुं उन्होंने 1975 में ही बिना स्नातक किये वहां से विदा ले ली।

जिसका कारण था उस समय उनके जीवन में दिशा का आभाव। माइक्रोसॉफ्ट कंपनी का  आगाज MITS “Micro Instrumentation and Telemetry System जिन्होंने एक माइक्रो कंप्यूटर का निर्माण किया था उन्होंने बिल गेट्स को एक प्रदर्शनी में उपस्थित  होने की अनुमति दी तथा Bill Gats ने उनके लिए अल्टेयर एमुलेटर निर्मित किया।

जो मिनी कंप्यूटर और बाद में इंटरप्रेटर में सक्रिय रूप से  लगा। इसके बाद बिल गेट्स और  उनके साथी को Mits के अल्बुकर्क स्थित कार्यालय में काम करने की अनुमति दे दी गयी। 

bill gates history in hindi

उन्होंने अपनी जोड़ी का नाम माइक्रो-सॉफ्ट रखा तथा अपने पहले कार्यालय की स्थापना अल्बुकर्क में ही की 26 नवंबर 1976 को उन्होंने माइक्रोसॉफ्ट का नाम एक व्यापारिक कंपनी के तौर पर पंजीकृत किया।

माइक्रोसॉफ्ट Basic कंप्यूटर के चाहने वालों में सबसे अधिक लोकप्रिय है 1976 में ही माइक्रोसॉफ्ट MITS से पूर्णत स्वतंत्र हो गया तथा बिल गेट्स औरएलन ने मिलकर कंप्यूटर में प्रोग्रामिंग भाषा सॉफ्टवेयर का कार्य जारी रखा।

इसके पश्चात माइक्रोसॉफ्ट ने अल्बुकर्क में अपना कार्यालय बंद कर Bellevue Washington में अपना नया कार्यालय खोला माइक्रोसॉफ्ट ने उन्नति की और बढ़ते हुए प्रारंभिक वर्षों में कड़ी मेहनत व लग्न से कार्य किया बिल गेट्स भी व्यावसायिक विवरण पर भी ध्यान देते थे तथा कोड लिखने का कार्य भी करते थे।

अन्य कर्मचारियों द्वारा लिखे गए कोड्स की समीक्षा भी खुद  ही करते थे इसके बाद प्रचलित कंपनी IBM ने माइक्रोसॉफ्ट के साथ काम करने की रूचि जाहिर की  उन्होंने माइक्रोसॉफ्ट से अपने पर्सनल कंप्यूटर के लिए बेसिक इंटरप्रेटर बनाने का अनुरोध किया कई कठिनाइओं से निकलने के पश्चात बिल गेट्स ने सीएटल कंप्यूटर प्रोडक्ट के साथ एक समझौता किया।

जिसके बाद एकीकृत लाइसेंसिंग एजेंट और बाद में 86- DOS के वह पूर्ण आधिकारिक बन गए और बाद में उन्होंने इसे IBM को $80,000 के शुल्क पर PC-DOS का नाम उपलब्ध कराया। इसके बाद माइक्रोसॉफ्ट प्रद्योगिकी कंपनी ने अपना बहुत नाम कमाया, और आज बिल गेट्स दुनिया के शिखर पर विराजमान है। इनकी जितनी तारीफ़ की जाए कम है। 

बिल गेट्स महान शख्सियत की कुछ महत्वपूर्ण बातें

  1. बिल गेट्स  ने विद्यालय में शिक्षा ग्रहण करते समय कंप्यूटर प्रोग्राम बनाकर 4,200 डॉलर कमा लिए थे। 
  2. मात्र 13 वर्ष आयु में अपना पहला कंप्यूटर प्रोग्राम टिक टेक् टो लिखा। 
  3. उन्होंने अपने Teacher से कहा था की वह  30 Years ki Age तक करोड़पति बन जाएंगे और मात्र 31 वर्ष की आयु में उन्होंने अरबपति बनकर दिखाया। 
  4. फोर्ब्स की विश्व की सबसे अमीर  लोगों की सूची में बिल गेट्स का नाम लगातार 11 वर्षों तक लगातार पहले नंबर पर आता रहा। 
  5. उन्होंने 2 किताबें भी लिखी “The Road Ahead” और “Business The Spend Of Thought”  
  6. पुरे जगत में सबसे बड़ी सॉफ्टवेयर कंपनी की नींव बिल गेट्स द्वारा  रखी गयी। 
  7. बिल गेट्स इंग्लिश के अलावा और कोई भाषा नहीं जानते। 
  8. Bill Gats अमेरिका का पूरा कर्जा सिर्फ 10 साल में उतार सकते है। 
  9. अगर बिल गेट्स रोज 6.5 करोड़ रुपये खर्च करे तो भी अपनी पूरी सम्पति को खर्च करने में इन्हे 218 साल लगेंगे। 

ये भी पढ़े

  1. Personality Development in hindi – अच्छी पर्सनेलिटी कैसे बनाये
  2. Good Manners For A Successful Life – 70 Habits For Kids Students
  3. एक विचार आपकी जिंदगी बदल सकता है Motivational Story in Hindi
  4. कैरोली टेक्सस की कहानी Karoly Takacs Story
  5. Sacha Mitra Story In Hindi सच्चे मित्र की कहानी
  6. Samay Ka Mahatva समय का महत्व एक अद्भुत स्टोरी
  7. बेस्ट 50 सुविचार और मोटिवेशनल वचन Inspirational quotes in hindi
  8. कबीर दास जी के 32 दोहे Kabir Das Ke Dohe with Meaning
  9. Aaj Ka Suvichar in Hindi With Image आज का विचार जो बदल दे आपकी लाइफ

दोस्तों आपको Bill Gats Biography In Hindi ये पोस्ट कैसी लगी। हमें comment करके अपने विचार दे। हमें बहुत ख़ुशी होगी। इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ Share ज़रूर करें। आपके पास कोई लेख है तो आप हमें Send कर सकते है। Mail :- radarhindi.net@gmail.com

Thanks For Reading

Leave a Comment