Blood Pressure In Hindi – हाई ब्लड प्रेशर का उपचार

दोस्तों आज हम बात करेंगे ब्लड प्रेशर Blood Pressure In Hindi के बारे में। वैसे तो ब्लड प्रेशर के बारे में बहुत सारी जानकारी उपलब्ध है। बहुत सी साइटों पर फिर भी हम ब्लड प्रेशर के बारे में थोड़ी अधिक Information आपके साथ शेयर कर रहे है।

आप चाहें मज़दूर हो या फिर नौकरी करने वाले व्यक्ति स्वास्थ्य के बारे में Information लेना आपका पहला कर्तव्य होना चाहिए है इसलिए आपको शायद पता ही होगा आपका सम्पूर्ण स्वास्थ्य आपके दिल के ऊपर निर्भर करता है आपका स्वास्थ्य सुरक्षित होगा तभी हम कार्य कर पायेंगे।

Blood Pressure In Hindi

Blood Pressure In Hindi –  हाई ब्लड प्रेशर का उपचार

ब्लड प्रेशर धमनियों दवारा बहने बाले रक्त से धमनियों की दीवारों पर लगाए जोर की शक्ति है। उच्च रक्तचाप (Hypertension) को उच्च दाब (तनाव ) के रूप में उल्लेख या परिभाषित किया जाता है ब्लड प्रेशर  2 Type से मापा जाता है। Systolic रक्तचाप दिल के संकुचन के दौरान धमनियों में दाब के समान होता है। Diastolic दवाब Heart की छूट की दौरान धमनियों में दवाब है। वे दोनों के Millimeter (MMHG) में मापे जाते है। 

low blood pressure in hindi

Low Blood Pressure वह दाब है। जिससे धमनियों और नसों में खून का प्रवाह कम होने के संकेत दिखाई देते है। जब रक्त का प्रवाह बहूत कम होता है तो Brain, Heart Or Kidney जैसे Important इन्द्रियों में को ऑक्सीजन और पौष्टिक पदार्थ नहीं पहुँच पाते है। जिस से यह शरीर के महत्वपूर्ण भाग सही से काम नहीं करते है। जिससे स्थायी रूप से हानि भी हो सकती है।

यदि किसी को Low Blood Pressure के कारण चक्कर आता है। या ठीक से खड़े नहीं हो पाते या या खड़े होने पर बेहोश होकर गिर जाते है वह आर्थोस्टेटिक उच्च रक्तचाप के कारण होता है। खड़े होने पर Low दाब के कारण होने वाले प्रभाव को सामान्य मनुष्य जल्दी उस पर Control कर लेता है।

जब पर्याप्त रक्त चाप के कारण रक्त की पूर्ति नहीं हो पाती है तब मनुष्य को छाती में Pain हो सकता है या फिर उसे Heart Attack भी हो सकता है सामान्य तोर पर किसी भी व्यक्ति का Blood Pressure 120 /80 के स्तर पर Normal होता है। और इसमें थोड़ा  अंतर् भी सामान्य होता है।

Low blood pressure symptoms in hindi – बीपी कम होने के कारण 

① Heart रोग  

Heart से Related किसी भी प्रकार की Problem होने पर Blood Pressure Low हो सकता है।

② खून की कमी   

Low Blood Pressure कई बार Body में रक्त की कमी से भी हो सकता है। किसी भी कारण अचानक शरीर में खून की कमी आ सकती है। बड़ी चोट लगने पर या अंदरूनी रक्तस्त्राव के कारण या फिर और अन्य भी कारण हो सकते है।

③ Weakness Or पोषण की कमी

Low Blood Pressure का बड़ा कारण शरीर को संतुलित आहार न मिलने और शरीर में आई कमजोरी कारण से भी हो सकता है। आवश्यक संतुलित आहार में से पोषक तत्व  न मिलने से शरीर जरूरत के मुताबिक लाल रक्त कोशिकाए नहीं बना पाती है। जिस कारण निम्न रक्त चाप होता है। 

④ Water की कमी

Body में Water की कमी से आप कमजोरी महसूस करते है। पानी की कमी से Blood Pressure ही Low नहीं होता बल्कि और भी स्वास्थ्य सबंधी Problem हो सकती है जिसमे बुखार, उल्टी, दस्त और गाल पिचक जाते है आदि समलित है। 

⑤ गर्भावस्था 

अक्षर कई कारण कई महिलाओं को गर्भवस्था के Time Low Blood Pressure की  Problem हो सकती है। क्योंकि इस समय में सर्कुलेटरी बड़ी तेजी से बढ़ता है। और ब्लड प्रेशर कम हो जाता है। 

⑥ अन्य Problems 

 अगर आपको स्वास्थ्य दे Related अन्य कुछ Problems है जैसे मधुमेह, थायरड, एडिसन्स आदि है। तो आप   Low Blood Pressure के मरीज़ हो सकते है। और यदि आपको किसी प्रकार का Tension, सदमा लगने, भयभीत होना आदि के कारण भी ब्लड प्रेशर निम्न हो सकता है।

⑦ लगातार दवाइयाँ लेना 

अगर आप किसी Problems से काफी समय से ग्रस्त है और आप लगातार Medicines ले रहे है। तो भी यह लौ ब्लड प्रेशर का कारण बन सकती है।

Low blood pressure symptoms in hindi

सामन्य तोर पर जब Suddenly बहुत Weakness का आपको आभास होता है या चक्कर आने जैसे लक्षण लौ ब्लड प्रेशर के हो सकते है। लेकिन प्रमुख रूप से थकान, डिप्रेशन, जी मचलाना, कम दिखाई देना, त्वचा में परिवर्तन, प्यास लगना आदि निम्न रक्तचाप के Mein लक्षण है।

High  Blood Pressure In Hindi – हाई ब्लड प्रेशर के बारे में 

यदि आपको High Blood  Pressure है तो उच्च दाब के कारण आपके दिल और रक्तवाहिकाओं अतिरिक्त  दवाब डालता है समय के साथ यह दाब आपको कमजोर और यहॉं तक की हार्ट अटेक का ख़तरा भी बन सकता है। High Blood  Pressure की जटिलताओं में Heart रोग, kidney रोग और धमनियों का कठोर होना आँखों की हानिऔर  Brain आदि की हानि हो सकती है।

High  Blood Pressure In Hindi के लक्षण :-

व्यक्ति किसी भी लक्षण को महसूस नहीं करेंगे। जब तक स्तर 180/110  (MMHG)  तक हाई नहीं हो जाता है यदि मरीज का समय रहते ईलाज न किया जाये तो यह एक बड़ी Problem खड़ी हो सकती। जैसे की अचानक Heart Attack आना। इसके लक्षण निम्न है। 

  1. घबराट होना। 
  2. चक्कर आना। 
  3. कम या ठीक से दिखाई न देना। 
  4. उल्टी आना। 
  5. नाक से खून बहना। 
  6. साँस लेने में दिक्क्त आना आदि है।

high blood pressure symptoms in hindi – हाई ब्लड प्रेशर का समय पर ईलाज न होना

यदि हाई ब्लड प्रेशर का समय पर इलाज नहीं होता है तो इससे कई समस्याऐं पैदा हो सकती है।और ये निम्न जटिलताएं पैदा हो सकती है। 

  1. खून के थक्के। 
  2. धमनी विस्फर। 
  3. किडनी का रोग और किडनी की विफ़लता। 
  4. उपपाचयी लक्षण। 
  5. ह्रदय का रुक जाना। 

High Blood Pressure के कारण

High Blood Pressure दो प्रकार के होते है। आवश्यक उच्च रक्तचाप (प्राथमिक ब्लड प्रेशर) जब High Blood Pressure जानने या पहचानने का कोई प्रमुख कारण न हो।  माध्यमिक High Blood Pressure एक अंतर्हित कारण के साथ, जैसे की रोग या विशिष्ट दवाइयाँ। 

  1. गुर्दे से संबंदित समस्याएं। 
  2. अधिवृक्क ग्रंथि ट्यूमर। 
  3. थायरॉएड समस्याएं। 
  4. बाधक निंद्रा अश्वशन।
  5. शराब का दरुपयोग। 
  6. अवैध दवाएं, जैसे कोकीन एम्फ़ैटमिंस। 
  7. रक्त वाहिकाओं में कुछ दोष जिसके साथ आप जन्म लेते है।

History Of  Blood Pressure In Hindi

Some important steps in the history of the development and selection of blood pressure are as follows: 

  • 1733 – Stephen Hales first measured blood pressure in horses.
  • 1886 – Riva – Rocki invented a pneumatic coffee.
  • 1896 – Clifford Abbott examines the role of the kidney in blood pressure.
  • 1905 – Corotkoff of Russia describes the voice that hears in the measure of blood pressure.
  • 1904 – M BOD told about the role of chloride ion.
  • 1963 – Laura recounts the role of Renin
  • 1973 – In the US the National High Bold-Pressure Education Program initiated stepped-care therapy, it was the initial round of JNC (Joint National Committee).
  • 1980 – Wadner clarifies the role of sodium ion and relates to blood pressure.
  • 1983 – Kaplan defined blood pressure.
  • 1988 – JNC (4) was released. This report was considered as an authority for blood pressure throughout the world.
  • 1993 – JNC (5) was released.
  • 1997 – JNC (6) was released.
  • 2003 – J.C.C. (7) was released.

Related Posts 


  1. Giloy ke fayde – Health Benefits Of Giloy in hindi – गिलोय का जूस पीने से क्या फायदा
  2. आँखों की कमजोरी के लक्षण – आँखों के रोग की संपूर्ण जानकारी
  3. Yoga Ke Fayde – Yoga Karne Ke Fayde – योगा के फायदे
  4. चेहरे के लिए सबसे अच्छी क्रीम कौन सी है – face ke liye best cream in hindi
  5. Gaal Fulane Ki dawa – Pichke Gaal ke liye tablet – पिचके गाल भरने के उपाय
  6. दिल की बीमारी का इलाज 6 प्राकृतिक तरीके से
  7. नीबू से हानि – lemon side effects – नींबू के नुकसान
  8. Nimbu Ke Fayde – lemon in hindi – नींबू के फ़ायदे

दोस्तों आपको Blood Pressure In Hindi – हाई ब्लड प्रेशर का उपचार ये पोस्ट कैसी लगी। हमें comment करके अपने विचार दे। हमें बहुत ख़ुशी होगी।और आपका 1 कमेंट हमें लिखने को  प्रोत्साहित करता और हमारा जोश बढ़ाता है। इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ Share ज़रूर करें। जैसे की Facebook, Twitter, linkdin और Pinterest इत्यादि। 

आपके पास कोई लेख है तो आप हमें Send कर सकते है। हमारी id: radarhindi@gmail.com, Right Side में जो Bell Show हो रही है उसे Subscribe कर ले। ताकि आप को समय समय पर Update मिलता रहे।

Thanks For Reading

Leave a Comment