Body Language in hindi – बॉडी लैंग्वेज कैसे Improve करें

Body Language in hindi – how to read body language in hindi बॉडी लैंग्वेज कैसे Improve करें। दोस्तों आज हम बात शरीर की भाषा के बारे में जिसकी इंग्लिश में Body Language कहते। आज के इस लेख में पूरी जानकारी पुरे विस्तार के साथ।

Body Language in hindi – बॉडी लैंग्वेज कैसे Improve करें 

कभी-कभी जब आप बोलने से आगे बढ़ते हैं बोलना संचार का एक छोटा सा हिस्सा है, बाकी आपकी बॉडी लैंग्वेज पर निर्भर करता है। इसका मतलब है।

कि आप अपने आप को कैसे दिखाना चाहते हैं, अपने शिष्टाचार या अपने आचरण का प्रतिनिधित्व करते हैं। बॉडी लैंग्वेज क्या होनी चाहिए और बॉडी लैंग्वेज को कैसे सुधारें, इसके तरीकों के बारे में आज के लेख में बात की जाएगी।

Body Language in hindi

Body Language in hindi  – बॉडी लैंग्वेज क्या है?

बॉडी लैंग्वेज – शारीरिक भाषा मूल रूप से गैर-मौखिक संकेत हैं जो हमारे संचार का एक बड़ा हिस्सा हैं। बॉडी लैंग्वेज आपके व्यक्तित्व का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। जिन चीजों को हम नहीं बोल सकते हैं, वे हमारे चेहरे के भाव और शरीर की गतिविधियों के बारे में जानकारी देती हैं।

शोध से पता चलता है कि ज्यादातर लोग भावों के आधार पर निर्णय लेते हैं। दरअसल जब हम किसी नए व्यक्ति से मिलते हैं तो हमारा अवचेतन मन उस व्यक्ति के हाव-भाव का मूल्यांकन करने में लगा रहता है ताकि हम उसके व्यक्तित्व को जान सकें।

क्या कभी आपके दिमाग में आया है की बॉडी लैंग्वेज कैसे सुधारे या बॉडी लैंगेज कैसी होनी चाहिए?

क्या आप अपने शरीर की मुद्रा, हावभाव, चेहरे के भाव की वजह से होश में हैं?

क्या आपको पता है की आप अपनी बॉडी लैंग्वेज से किसी दुसरे व्यक्ति को कैसी वाइब्स दे रहे हैं?

किसी भी मुद्दे पर अंदर से बाहर काम करने से, मार्गों को संबोधित करने से स्थायी परिवर्तन आता है।

इस लेख में हम आपको बताएंगे की बॉडी लैंग्वेज कैसी होनी चाहिए और उसे कैसे सुधारना चाहिए।

Body Language in hindi pdf – अच्छी बॉडी लैंग्वेज क्यों होनी चाहिए?

1. अब जब आप एक समूह में संवाद कर रहे हैं, यदि आपकी शारीरिक भाषा सकारात्मक है, तो आप बेहतर तिथियों के साथ अपनी बात सबके सामने रख सकेंगे और आपके शब्द अधिक प्रभावी लगेंगे।

2. आजकल नौकरी पाना इतना आसान नहीं है। ज्यादातर नौकरियां इंटरव्यू के बाद ही मिलती हैं। तो अगर आप सकारात्मक और आत्मविश्वास के साथ साक्षात्कार का सामना करना चाहते हैं तो उसके लिए ये कौशल बहुत महत्वपूर्ण हैं। इससे आप औपचारिक रूप से, अनौपचारिक रूप से, किस – किस से बात करनी है सब ठीक से समझ कर बात करें।

3. एक सफल मनुष्य के लिए अच्छी बॉडी लैंग्वेज का होना भी उनकी सफलता का एक हिस्सा है। जब आपकी बॉडी लैंग्वेज अच्छी और प्रभावी होती है, तो लोग आपसे बात करने और आपके साथ काम करने में ज्यादा दिलचस्पी लेते हैं।

4. अगर आपकी बॉडी लैंग्वेज लोगों को नेगेटिव वाइब्स देती है तो न तो आपका सामाजिक जीवन और न ही आपकी सामान्य दिनचर्या अच्छी रहेगी क्योंकि लोग आपसे ज्यादा बातचीत करना पसंद नहीं करेंगे।

How to Improve Body Language – शारीरिक भाषा में सुधार कैसे करें ज़रूरी टिप्स 

1. अपने आस पास की अवेयरनेस रखिये 

बॉडी लैंग्वेज क्या होनी चाहिए, इसे हल करने या सुधारने के लिए पहला कदम जागरूक होना है। अगर आपको अपनी बॉडी लैंग्वेज का अच्छा ज्ञान है तो आप अपने आप को बेहतर बनाने में सक्षम होंगे। आप जो कुछ भी करते हैं, जब भी करते हैं, हर चीज पर ध्यान देना जरूरी है। अपनी बॉडी लैंग्वेज को बेहतर बनाने के लिए आपको खुद को जानना होगा।

2. बॉडी लैंग्वेज क्या होनी चाहिए, यह जानने के लिए आंखों का संपर्क बनाए रखना जरूरी है

कनेक्शन बनाए रखने के लिए आंखों का संपर्क बहुत जरूरी है। जब हम किसी से बात कर रहे होते हैं, अगर आप उस पर नजर रखते हैं, तो हम दूसरे व्यक्ति की बात सुन रहे होते हैं। घूरें नहीं, यह असहज होगा, बस पूरी एकाग्रता के साथ सुनें।

साथ ही, यदि आप आँख से संपर्क बनाए रखते हैं, तो आत्मविश्वास से भरी बॉडी लैंग्वेज होगी। सामने वाला व्यक्ति आसानी से आपकी बॉडी लैंग्वेज और आपके व्यक्तित्व को भी आंक लेगा। यदि आप बार के चारों ओर अपनी आँखें घुमाते रहते हैं और आँख से संपर्क नहीं करते हैं, तो आपका आत्मविश्वास कम महसूस होगा। आँख से संपर्क बनाए रखें, डरो मत, करते रहो।

3. शरीर की भाषा में सुधार के लिए हाथ पार (Cross) न करें

यदि आप अपनी बाहों को पार करते हैं, तो दूसरे लोग सोचेंगे कि आपको बात करने में कोई दिलचस्पी नहीं है या आप परेशान हैं। दूसरों को लगेगा कि आप बातचीत को बहुत हल्के में ले रहे हैं और वे आपके लिए बात नहीं करेंगे चाहे वे कुछ भी कहें।

यह एक प्राकृतिक आदत है, आपको पता नहीं हो सकता है कि आपने कब अपनी बाहों को पार कर लिया है, लेकिन चूंकि हम बात कर रहे हैं कि बॉडी लैंग्वेज क्या होनी चाहिए, इसलिए सकारात्मक प्रभाव बनाना बहुत जरूरी है।

4. बोलने से पहले सोचिए

हम में से अधिकांश, जब हम बात करना शुरू करते हैं, ऊपर या नीचे देखते हैं और फिर से आँख मिलाते हैं जब हमें लगता है कि हमने अपने सभी विचारों को इकट्ठा कर लिया है। एक विराम लेना, विचारशील विचार लागू करना, थोड़ा सोचना और जब भी आप बातचीत शुरू करना चाहते हैं,

तो फिर से आँख से संपर्क बनाए रखने का प्रयास करना बेहतर है। यह आपके शब्दों को शक्तिशाली महसूस कराएगा क्योंकि आपकी आंखें भी आपके शब्दों का समर्थन कर रही हैं।

5. लोगों का निरीक्षण करें

यह संभव है कि आप कुछ लोगों की प्रशंसा करें, इसलिए उनका अध्ययन करने से आपको खुद को बदलने और उनसे सीखने का एक अच्छा विचार मिल सकता है। आपको खुद से पूछना चाहिए कि आपने उनमें परफेक्शन क्यों देखा? आप उनसे क्यों प्रेरित हुए? उनकी बॉडी लैंग्वेज, हर काम करने का उनका तरीका इतना आकर्षक क्यों है? यह सब देखकर खुद को बेहतर बनाने में काफी मदद मिलेगी।

6. अपने कंधों को आराम दें और चटाई पर झुक जाएं – समझें कि बॉडी लैंग्वेज को कैसे बेहतर बनाया जाए।

हमारे कंधों की स्थिति हमारे व्यक्तित्व के बारे में कुछ बताती है। उदाहरण के लिए, यदि आपके कंधे बहुत ऊंचे हैं, तो ऐसा लग सकता है कि आप घबराए हुए हैं, तनावग्रस्त हैं और बात करने के लिए तैयार नहीं हैं। वहीं दूसरी ओर यदि आपके कंधे झुके हुए या झुके हुए हैं, तो आत्म-चेतन और उदास कंपन होंगे।

इसलिए आरामदायक महसूस करने के लिए आपके कंधे को सामान्य रखा जाना चाहिए। जब आप किसी से बात कर रहे हों तो आपकी पीठ या रीढ़ सीधी होनी चाहिए। अपने आप को याद दिलाएं कि आप ‘ठोड़ी ऊपर’ करना चाहते हैं और गर्दन को सीधा रखें ताकि आप आत्मविश्वास महसूस करें और अपनी बात को सहज रखें।

how to read body language in hindi – बॉडी लैंग्वेज कैसे सुधारें 

7. बोलते समय स्पीड रखें – Body Language in hindi pdf 

कई बार जब हम नर्वस या स्ट्रेस में होते हैं तो बहुत तेज बोलने लगते हैं जैसे किसी ने फास्ट फॉरवर्ड का बटन दबा दिया हो। दूसरा व्यक्ति आसानी से अनुमान लगा सकता है कि आपको खुद पर विश्वास नहीं है और आप नहीं जानते कि आप किस बारे में बात कर रहे हैं।

बहुत तेज बोलने से भी शत्रुओं को आपकी बात समझने में काफी परेशानी हो सकती है क्योंकि हो सकता है कि वे आपकी बातों को स्पष्ट रूप से न समझ पाएं। अपने शब्दों और विचारों को स्पष्ट रूप से स्पष्ट करने के लिए यह बहुत महत्वपूर्ण है कि आप स्पष्ट रूप से बोलें और अपनी बात व्यक्त करें।

8. उचित दूरी बनाए रखें -Body Language in hindi pdf 

बॉडी लैंग्वेज में सुधार और सुधार कैसे करें, यह जानने का यह एक बहुत ही महत्वपूर्ण पहलू है। कुछ लोग करीबी बात करने वालों के साथ सहज होते हैं और कुछ अधिक दूरी पसंद करते हैं। आपको देखना चाहिए कि क्या आपसे बात करते समय किसी को झुकना पड़ा है या बात करते समय कोई डर नहीं है।

अगर किसी को बार-बार झुकना पड़े तो आपको आगे बढ़ना चाहिए और अगर किसी को डर लग रहा है तो उससे ज्यादा से ज्यादा दूरी बनाकर रखें।

9. बॉडी लैंग्वेज में सुधार के लिए मुस्कान जरूरी है

हल्का करो, अपने आप को बहुत गंभीरता से न लें। आपको आराम करना चाहिए क्योंकि अगर आप उन्हें सकारात्मक ऊर्जा देंगे तो लोग आपसे बात करना बेहतर महसूस करेंगे। यदि आप एक खुशनुमा और सुखद माहौल बनाते हैं तो लोग आपके साथ अधिक बातचीत करेंगे।

ऐसा भी नहीं होना चाहिए कि आप अपने ही चुटकुलों पर हंस रहे हों, इससे ऐसा लगेगा कि आपकी जरूरत है। जब आप किसी से पहली बार मिलें तो मुस्कुराना महत्वपूर्ण है, लेकिन ऐसा नहीं है कि आपको हर समय मुस्कुराना पड़ता है। बस आराम करो और आनंद लो।

10. पैसे बर्बाद मत करो – Body Language in hindi pdf 

कई बार कुछ लोगों को बात करते समय लगातार हलचल करने की आदत होती है। अपने पैरों को घबराहट से हिलाना या अपने हाथ या उंगलियों को बार-बार टेबल पर थपथपाना। सराय की हलचल आपको सामान के माध्यम से बहुत परेशान और चिंतित कर सकती है और बातचीत भी विचलित कर सकती है। दूसरा व्यक्ति चिढ़ सकता है और आपसे बात करने में दिलचस्पी नहीं ले सकता है। इसलिए जरूरी है कि आप अपनी गतिविधियों पर पूरा ध्यान दें।

11. संचार करते समय इशारों का प्रयोग करें – शारीरिक हावभाव शरीर की भाषा को बेहतर बनाने के लिए आवश्यक हैं।

जो लोग अच्छी बात करने वाले होते हैं, वे अपने हाथों की हरकतों से अपना आत्मविश्वास बनाए रखते हैं। यदि आप हाथ के इशारों से बातचीत करते हैं, तो लोगों को लगेगा कि आप उनसे बात करने में रुचि रखते हैं और आप वास्तव में उनसे बात करना चाहते हैं। आप एक जटिल विचारक भी हैं।

अगर आपकी मुट्ठियां भींची हुई हैं, तो ऐसा लगेगा कि आप आक्रामक हैं, वहीं अगर आप इशारों को स्वीकार करते हैं, जब हाथ और हथेलियां गोल होती हैं, तो दूसरे व्यक्ति को सकारात्मक अनुभूति होती है। जब कोई बात करता है तो सिर हिलाना बहुत जरूरी है, उन्हें पता चल जाएगा कि आप एक महान श्रोता हैं।

12. दूसरे लोगों के भावों को समझें

हमें लोगों के चेहरे के भावों पर ध्यान देना चाहिए, हम किसी भी व्यक्ति की सच्ची भावनाओं को जान सकते हैं। जैसे अगर कोई नोड करने वाला आपकी बात सुनने में इंटरेस्ट रखता है। अगर कोई हमारी बात सुनकर इमोशनल हो रहा है या फिर कोई अनबन हो रही है तो इस जजमेंट के आधार पर हम सब कुछ जान सकते हैं

बॉडी लैंग्वेज कैसी होनी चाहिए और बॉडी लैंग्वेज को कैसे सुधारा जाए, यह समझने के लिए इन टिप्स को ध्यान में रखना जरूरी है।

body language in hindi pdf – ध्यान रखने योग्य अतिरिक्त बातें

Body Language in hindi pdf जब आप किसी नए व्यक्ति के साथ बातचीत कर रहे हों, तो यह बहुत महत्वपूर्ण है कि समझौते की शारीरिक भाषा ऐसी होनी चाहिए कि वह स्पष्ट लगे। किसी भी जॉब इंटरव्यू, प्रेजेंटेशन, डेट में किसी भी मौके की तुलना में सबसे पहले आपका व्यक्तित्व आपकी बॉडी लैंग्वेज को बताएगा। तो यह तथ्य बहुत महत्वपूर्ण हो जाता है क्योंकि आपको अपनी बॉडी लैंग्वेज के माध्यम से पहली छाप बनानी होती है।

अपने स्वयं के भावों का पालन करना महत्वपूर्ण है। यदि आप कभी भी सुनिश्चित नहीं हैं कि जब आप नग्न होते हैं या किसी के बारे में कैसा महसूस करते हैं, तो आपका शरीर क्या कह रहा है, इस पर ध्यान देना महत्वपूर्ण है।

हमेशा ईमानदार और गैर-निर्णयात्मक रहें। यदि आप कुछ सही कह रहे हैं और आपका मतलब है, तो आपकी बॉडी लैंग्वेज यूएस से आएगी और किसी और को यह देखने में अजीब नहीं लगेगा।

यह मत सोचिए कि आप किसी की बॉडी लैंग्वेज को आसानी से समझ सकते हैं या समझ सकते हैं। आप गलत हो सकते हैं, उदाहरण के लिए, यदि कोई अपनी बाहों को मोड़ता है, तो इसका मतलब यह नहीं है कि उन्हें कोई दिलचस्पी नहीं है या उन्हें बात नहीं करनी चाहिए, उन्हें बस ठंड लग सकती है।

चेहरे के भाव या हावभाव को कभी भी नकली नहीं बनाना चाहिए। अगर दूसरे व्यक्ति को इसका पता चल जाएगा तो उसे लगेगा कि आप झूठ बोल रहे हैं और आप नकली हैं। यह अच्छा प्रभाव नहीं डालेगा। इसलिए यह महत्वपूर्ण है कि आप जैसे हैं वैसे ही रहे हैं।

body language in hindi pdf – निष्कर्ष

ऐसा नहीं हो सकता कि आप नग्न हर चीज से पूरी तरह अवगत रहें, गहरी सांस लें और आराम करें। बॉडी लैंग्वेज क्या होनी चाहिए या इसे कैसे सुधारा जाए, शुरुआत में यह थोड़ा अस्वाभाविक लग सकता है लेकिन खुद को मजबूर न करें, प्रवाह के साथ चलें।

थोड़ी जागरूकता और ऊपर चर्चा की गई बातों को ध्यान में रखते हुए, आप अपने शब्दों के साथ-साथ अपने शरीर के माध्यम से भी अच्छी तरह से संवाद कर पाएंगे। बस थोड़े से धैर्य की जरूरत है।

हमें हमेशा सतर्क रहना चाहिए क्योंकि आंखों से हमारा जुनून, शब्दों से इरादा और बॉडी लैंग्वेज से हमारे व्यक्तित्व के नंगे चेहरे में कुछ पता चलता है।

Body language in hindi pdf – बॉडी लैंग्वेज पीडीऍफ़ डाउनलोड 

Download Now :- Body language pdf

ये भी पढ़े


  1. Suvichar In Hindi With Photo – 20 Hindi Suvichar Image Free Download
  2. Bad habits Quotes in Hindi – Breaking bad habits quotes – सफ़लता के लिए 16 बुरी आदतें छोड़े
  3. Suvichar In Hindi With Photo – 20 Hindi Suvichar Image Free Download
  4. 20 Anmol Vachan In Punjabi -10 Anmol Vachan In Punjabi
  5. प्रेरणादायक सुविचार इन हिंदी – Suvichar In Hindi 
  6. Depression hindi – Depression in hindi – डिप्रेशन को दूर करने के 18  बेहतरीन उपाय
  7. Good Morning Images – 200+ Good Morning Image in hindi Latest Update 2021
  8. Truth of life quotes in hindi – Bitter truth of life quotes in hindi


दोस्तों आपको Body Language in hindi – बॉडी लैंग्वेज कैसे Improve करें ये पोस्ट कैसी लगी। हमें comment करके अपने विचार दे। हमें बहुत ख़ुशी होगी। इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ Share ज़रूर करें। आपके पास कोई लेख है तो आप हमें Send कर सकते है।

हमारी id:radarhindi.net@gmail.com पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे। हमें facebook page पर फॉलो कर ले और Right Side में जो Bell Show हो रही है उसे Subscribe कर लेताकि आप को समय समय पर Update मिलता रहे।

Thanks For Reading

Leave a Comment