Firaq Gorakhpuri Shayari – Firaq Gorakhpuri Sher

Firaq Gorakhpuri Shayari – Firaq Gorakhpuri Sher रघुपति सहाय, जिन्हें दूर-दूर तक फ़िराक गोरखपुरी के नाम से जाना जाता है, एक उल्लेखनीय लेखक, आलोचक और भारत के एक उल्लेखनीय उर्दू कवि थे।

उनका जन्म 28 अगस्त 1896 को उत्तर प्रदेश राज्य के एक शहर गोरखपुर में हुआ था और वहीं से उनकी गोरखपुरी की उपाधि ली गई है। उन्होंने इलाहाबाद विश्वविद्यालय में अंग्रेजी विभाग में व्याख्याता के रूप में भी कार्य किया।

Firaq Gorakhpuri Shayari
Firaq Gorakhpuri Shayari

Firaq Gorakhpuri Shayari in Hindi – गोरखपुरी साहब, अपनी बुद्धि के कारण

यह जानना दिलचस्प है कि फिराक गोरखपुरी साहब, अपनी बुद्धि के कारण, प्रांतीय सिविल सेवा (पीसीएस) के साथ-साथ भारतीय सिविल सेवा (आईसीएस) दोनों में चयनित हुए।

हालाँकि, उन्होंने असहयोग आंदोलन के दौरान अपने पद से इस्तीफा दे दिया क्योंकि वे हमेशा राष्ट्र की सेवा करना चाहते थे और स्वतंत्रता के लिए उनकी लड़ाई में गांधीजी के साथ शामिल होना चाहते थे।

Firaq Gorakhpuri Shayari Hindi – फिराक गोरखपुरी द्वारा अद्भुत काम और प्रसिद्ध शायरी

कहा जाता है कि फिराक गोरखपुरी की रचनाओं का लोगों पर गहरा प्रभाव पड़ा। हजार शेर फिराक के किताब के संपादक रमेश द्विवेदी ने अपनी किताब में लिखा है कि फिराक गोरखपुरी की शायरियों ने लोगों को आत्महत्या करने से भी बचाया है।

फ़िराक़ गोरखपुरी की शायरी जीवन के कभी न बदलने वाले सत्य पर आधारित है और इसने मनुष्यों के मनोवैज्ञानिक और व्यवहारिक पहलुओं को व्यापक रूप से उजागर किया है।

फिराक गोरखपुरी की कविता मुख्य रूप से व्यक्तियों, समाज और मानव जाति पर आधारित जटिल पहेलियों को सुलझाने पर केंद्रित है – एक विविध इकाई के रूप में।

पाठक फ़िराक़ के लिखे हर शब्द से एक गहरा जुड़ाव महसूस करते हैं। ऐसा लग रहा था कि फ़िराक़ मानव हृदय की धड़कन को एक ऐसी भाषा में अनुवाद करने की कला जानता है जिसे आम जनता आसानी से समझ सके।

नीचे फ़िराक़ गोरखपुरी के कुछ अत्यधिक प्रशंसनीय शब्द हैं जो उनके और उनके काम के बारे में ऊपर कही गई हर बात के साथ न्याय करेंगे।

Firaq Gorakhpuri Shayari – Firaq Gorakhpuri Sher

1. कोई समझ से एक बात कहूं, इश्क तौफीक है गुनाह नहीं।

अर्थ:- वे सभी लव बर्ड्स इसे पढ़ रहे हैं, मुझे यह मत बताना कि यह आपको मौके पर ही नहीं लगा। उपरोक्त पंक्तियों में फिराक गोरखपुरी ने स्पष्ट रूप से स्वयं को एक उत्साही प्रेमी के रूप में प्रस्तुत किया।

2. तर्क ए मोहब्बत करने वालो, कौन ऐसा जग जीत लिया, इश्क़ से पहले के दिन सोचो कौन बड़ा सुख होता था।

अर्थ:- यह फ़िराक़ गोरखपुरी शायरी विशेष रूप से उन सभी को समर्पित है जो हमेशा अपने रिश्ते के बारे में शिकायत करते हैं, वह भी अपने एकल दोस्तों के सामने, इस प्रकार उन्हें डिमोटिवेट करते हैं। आह!

3. मैं हूँ, दिल है, तन्हाई है, तुम भी जो होते, अच्छा होता।

अर्थ:- त्वरित प्रश्न- दिल के दर्द से बुरा क्या है?
उत्तर- अपनों से बिछड़ने का दर्द।

यह फिराक गोरखपुरी की जुदाई और एकतरफा प्यार के बारे में कविता है।

4. इश्क़ में सच ही का रोना है, झूठे नहीं तुम झूठे नहीं हम।

अर्थ:- बेशक, जब आप प्यार में होते हैं तो आपको कई सामाजिक बाधाओं से जूझना पड़ता है, जिसमें यह सवाल भी शामिल है कि आप कब शादी कर रहे हैं। फ़िराक़ गोरखपुरी के उपरोक्त दोहे में प्रेम का दर्दनाक मार्ग परिलक्षित होता है।

5. लेने से ताज-औ–तख़्त मिलता है, माँगे से भीख भी नहीं मिलती।

अर्थ:-  और यहाँ फ़िराक़ गोरखपुरी साहब से एक जीवन सबक आता है – जो आप चाहते हैं उसके लिए स्वयं प्रयास करें, मदद के लिए दूसरों की ओर न देखें।

अगर आप भीख मांगते हैं, तो आपको कुछ नहीं मिलेगा, लेकिन आप कमाते हैं, आपको सब कुछ मिल सकता है।

6. कौन ये ले रहा है अंगड़ाई, आसमानो को नींद आती है।

अर्थ:- इस शेर को पढ़ने के बाद मेरा दिल एक ही शब्द कहता है ‘हाआआए!!!’। इस फिराक गोरखपुरी शायरी में बहुत गहरा संदेश छिपा है।

7. दिलों को तेरे तबस्सुम की याद यूँ आयी, की जगमगा उठे जिस तरह मंदिरों में चिराग़।

अर्थ:- क्या आपने फिराक गोरखपुरी के इस दोहे के एक-एक शब्द में पवित्रता और प्रेम का अनुभव किया है? प्यार वास्तव में प्रिय की हर याद के साथ जीवन को रोशन करता है।

8. ज़रा विसाल के बाद आईने तो देख ऐ दोस्त, तेरे जमाल की दोशीजगी निखर आयी है।

अर्थ:- उपरोक्त फिराक गोरखपुरी शायरी में, यह खूबसूरती से परिलक्षित होता है कि प्रेमियों के मिलने के बाद चेहरे का रंग बदल जाता है।

अगली बार जब आप किसी नए रिश्ते में आने के बाद अपने दोस्त को प्यार से चमकते हुए देखें, तो आप जानते हैं कि क्या कहना है। पलकें !!

9. बहुत दिनों में मुहब्बत को ये हुआ मालूम, जो तेरे हिज्र में गुज़री वो रात रात हुयी।

अर्थ:- आपने सुना होगा कि देर से सोने वाले लोग ज्यादा क्रिएटिव होते हैं। अब, क्या आप अनुमान लगा सकते हैं कि कोई कवि अपनी अधिकांश रचनाएँ कब लिखता है? हाँ, अंधेरी रातों में। मुस्कान!

10. सुनते हैं इश्क़ नाम के गुज़रे हैं एक बुज़ुर्ग, हम लोग भी फ़क़ीर उसी सिलसिले के हैं।

अर्थ:- यह फिराक गोरखपुरी का एक व्यक्तिगत पसंदीदा दोहा है और वास्तव में यह शाश्वत सत्य रखता है। प्रेम के मार्ग पर चलकर ही मानव जाति समृद्ध हो सकती है।

11. हर लिया है किसी ने सीता को , ज़िन्दगी है की राम का बनवास।

अर्थ:- मेरे हमेशा के लिए सिंगल दोस्तों के लिए, मैं आपको महसूस करता हूं। यह फिराक गोरखपुरी शायरी आप सभी के लिए कुछ खास है। आपका प्रिय कहीं खो गया है और आप अपना जीवन निर्वासन की तरह जी रहे हैं।

12. दम निकल जाये मगर दिल न लगाये कोई, इश्क़ की थी ये वसीयत मुझे मालूम न था।

अर्थ:- फिराक गोरखपुरी साहब, दिल के टुकड़े-टुकड़े होने से पहले हममें से कोई भी यह नहीं जानता था। सच में टूटना वो वसीयत है जो प्यार में पड़कर लिखी जाती है। फिर भी, इसे अपनी अंतिम सांस तक नहीं भूलना चाहिए। आह!

13. तबियत अपनी घबराती है जब सुनसान रातों में, हम ऐसे में तेरी यादों की चादर तान लेते हैं।

अर्थ:- नींद की रातें हमेशा यादों की गाड़ियों के साथ होती हैं। मान लीजिए, फ़िराक़ गोरखपुरी साहब भी हद से ज़्यादा सोचने के मरीज़ थे। (जाहिर है, कोई बिना सोचे-समझे कवि कैसे बन सकता है?)

14. हमसे क्या हो सका मोहब्बत में खैर, तुमने तो बेवफाई की।

अर्थ:- अपने अपमानजनक पूर्व को प्यार से कहने के लिए यह सबसे अच्छी फिराक गोरखपुरी शायरी है।

15. मुहब्बत में मेरी तन्हाइयों के हैं कई उन्वान, तेरा आना तेरा मिलना तेरा उठने तेरा जाना।

अर्थ:- क्योंकि जब आप किसी से प्यार करते हैं तो आपकी पूरी दुनिया उसके इर्द-गिर्द घूमने लगती है। जब आप अकेले होते हैं, तो आप अपने प्रिय की लालसा और उसे याद करने के चैंपियन बन जाते हैं।

Firaq Gorakhpuri Shayari in Hindi – Firaq Gorakhpuri Shayari in Hindi Font 

16. ग़ज़ल है या कोई देवी कड़ी है लत्त छिटकाये, ये किसने गेसू-इ-उर्दू को यूँ संवारा है।

अर्थ:- मान लीजिए फिराक गोरखपुरी साहब इस शेर में अपने बारे में बात कर रहे थे।

17. किसको रोता है उम्र भर कोई, आदमी जल्द भूल जाता है।

अर्थ:- यह शेर दो तथ्यों पर प्रकाश डालता है। पहला, जिसने आपके जाने के बाद मरने का वादा किया था, वह ब्रेकअप के बाद भी खुशी से (किसी और के साथ) रहना जारी रखेगा।

दूसरा, अपने जहरीले साथी को छोड़ दें, खुद पर भरोसा रखें और आप जल्द ही उन पर काबू पा लेंगे। शुभकामनाएँ!

18. रात भी, नींद भी, कहानी भी, हाय क्या चीज़ है जवानी भी।

अर्थ:- फ़िराक गोरखपुरी का यह एक ऐसा ही भरोसेमंद शेर है। हम सभी इस पूरे चरण से गुजरते हैं, जहां हम बड़े होने की उथल-पुथल और चुनौतियों का सामना करते हैं। वहाँ किया गया था कि!

19. क्या जाम है फिराक़ मुहब्बत का जाम भी, अब-इ-हयात भी है असल का पयाम भी।

अर्थ:- उपरोक्त प्रश्न का उत्तर केवल वही लोग दे सकते हैं जो प्रेम में डूबे हुए हैं। उन्होंने दूसरे व्यक्ति को खुश करने के लिए अपने अस्तित्व को जाने दिया।

प्यार एक ऐसा रास्ता है जो मुश्किलों से भरा होता है लेकिन फिर भी राहगीर उस पर मुस्कुराते हुए चलता रहता है।

20. बहुत पहले से कदमों की आहट जान लेते है, तुझे ऐ ज़िन्दगी हम दूर से पहचान लेते है।

21. हज़ार बार ज़माना इधर से गुज़रा है, नयी नयी सी है कुछ तेरी रहगुज़र फिर भी।

22. ए थे मई-खाने में हस्ते खेलते ‘फ़िराक़’, जब पी चुके शराब तोह संजीदा हो गए।

23. सितारों से उलझता जा रहा हूँ, शब्-इ-फुरक़त बहुत घबरा रहा हूँ, तेरे ग़म को भी कुछ बेहला रहा हूँ, जहाँ को भी समझता जा रहा हूँ।

24. यह माना ज़िन्दगी है चार दिन की, बहुत होते है यार चार दिन भी।

25. तुम मुखातिब भी हो करीब भी, तुम को देखे की तुमसे बात करे।

26. ज़ब्त कीजिये तोह दिल है अँगारा, और अगर रोइये तोह है पानी।

27. ऐ सोज-इ-इश्क तू ने मुझे क्या बना दिया, मेरी हर एक सांस मुनाजात हो गयी।

28. सांस लेती है वो ज़मीन फिराक़, जिस पर वो नाज़ से गुजरते है।

29. गरज़ की काट दिए ज़िन्दगी के दिन ऐ दोस्त, वो तेरी याद में हो या तुझे भुलाने में।

30. हुस्न यही है इश्क़ यही है , धोके दे ले, धोखे खा ले।

Firaq Gorakhpuri Shayari – Firaq Gorakhpuri Sher

और आखिरी लेकिन कम से कम, यहां फिराक गोरखपुरी का एक दोहा है जिसमें वह उन सभी लोगों पर कटाक्ष करते हैं जो उनसे प्यार करने वाले लोगों के प्रति वफादार नहीं हैं।

मुझे उम्मीद है कि आपको उपरोक्त लेख पढ़ना पसंद आया होगा। मैंने फिराक गोरखपुरी की कविताओं और व्यक्तित्व के बारे में अपने सभी ज्ञान को संकलित करने की बहुत कोशिश की।

ये भी पढ़े


  1. 100 Good habits for students – Good habits for students in Hindi
  2. Google Meri Shaadi Kab hogi – Shadi Kab Karna Chahiye
  3. Premam movie download in tamil kuttymovies – Premam 720p movie download tamilrockers
  4. Harivansh Rai Bachchan Poem In Hindi – हरिवंश राय बच्चन
  5. Garib Majdoor Ki Kahani – गरीब मज़दूर की कहानी
  6. Akbar Birbal Stories In Hindi – अकबर बीरबल की हिन्दी कहानियाँ
  7. एक फलवाले का विश्वास और माँ की सेवा के प्रति सच्चा – maa ki mamta ki kahani
  8. Maa in hindi – Quotes on maa in hindi – माँ की ममता कहानी
  9. Maa Beti Ki Kahani Hindi Story – बेटी का माँ के प्रति प्यार
  10. Moral Stories In Hindi – top 10 moral stories in hindi मोरल स्टोरीज़ चैंजिंग LIFE
  11. Chitrakar Ki Kahani – Chitrakar Ki Story चित्रकार की कहानी सफ़लता मिली जिद्द से

दोस्तों आपको Firaq Gorakhpuri Shayari – Firaq Gorakhpuri Sher ये पोस्ट कैसी लगी। हमें comment करके अपने विचार दे। हमें बहुत ख़ुशी होगी। इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ Share ज़रूर करें। आपके पास कोई लेख है तो आप हमें Send कर सकते है।

हमारी id:radarhindi.net@gmail.com पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे। हमें facebook page पर फॉलो कर ले और Right Side में जो Bell Show हो रही है उसे Subscribe कर लेताकि आप को समय समय पर Update मिलता रहे।

Thanks For Reading

Leave a Comment