Giloy ke fayde – Health Benefits Of Giloy in hindi – गिलोय का जूस पीने से क्या फायदा

Giloy ke fayde – Health Benefits Of Giloy in hindi – गिलोय का जूस पीने से क्या फायदा इसके बारे में हम आज बात करेँगे। गिलोए पीने से क्या – क्या फ़ायदे है।

अपने आप को ठीक रखने के लिए प्राकृतिक चिकित्सा में शांति की लहर खोजने का समय आ गया है। कई अध्ययनों के आधार पर, आयुर्वेद उपचार को भारत और पूरी दुनिया में उपचार का सबसे अच्छा प्राकृतिक रूप माना जाता है।

आयुर्वेद में, गिलोय को विभिन्न बुखारों और अन्य स्थितियों के इलाज के लिए सबसे अच्छी दवा में से एक माना जाता है। गिलोय तीन अमृत पौधों में से एक है। अमृत का अर्थ है ‘अमरता की जड़’। इसलिए, इसे संस्कृत में अमृतवल्ली या अमृता भी कहा जाता है।

त्वचा के लिए गिलोय के लाभ, मस्तिष्क के लिए गिलोय के लाभ, मधुमेह के लिए गिलोय के लाभ, पाचन तंत्र के लिए गिलोय के लाभ, प्रजनन प्रणाली के लिए गिलोय के लाभ, पुरुषों और महिलाओं से संबंधित समस्याओं के लिए गिलोय के लाभ के बारे में बताएंगे। गिलोय के फायदे गठिया के लिए,  उच्च रक्तचाप के लिए गिलोय के फायदे, हृदय रोगियों के लिए गिलोय के फायदे।

Giloy ke fayde
Giloy ke fayde in hindi

Table of Contents

Giloy ke fayde – Giloy Kya Hai 

गिलोय को वैज्ञानिक रूप से हिंदी में Tinospora Cordifolia or Guduchi के नाम से जाना जाता है। गिलोय का तना अपनी उच्च पोषण सामग्री और इसमें पाए जाने वाले एल्कलॉइड के कारण अत्यधिक प्रभावी माना जाता है लेकिन जड़ और पत्तियों का भी उपयोग किया जा सकता है।

चरक संहिता के एक श्लोक के अनुसार गिलोय कड़वे स्वाद वाली प्रमुख जड़ी-बूटियों में से एक है। इसका उपयोग विभिन्न विकारों में किया जाता है और यह वात और कफ दोष को कम करने में भी मदद करता है। गिलोय को दिल के आकार की पत्तियों और उसके लाल रंग के फल के कारण इसका नाम हार्ट-लीव्ड मूनसीड भी पड़ा है।

Giloy ke fayde – Giloy ke fayde in hindi – गिलोय के औषधीय गुण  

गिलोय का तना अपनी उच्च पोषण सामग्री और इसमें पाए जाने वाले एल्कलॉइड, ग्लाइकोसाइड, स्टेरॉयड और अन्य यौगिकों के कारण अत्यधिक प्रभावी माना जाता है, लेकिन इसकी जड़ और पत्तियों को भी उपयोग में लिया जा सकता है। गिलोय में मौजूद ये यौगिक विभिन्न विकारों जैसे मधुमेह, कैंसर, तंत्रिका संबंधी समस्याओं, बुखार आदि के खिलाफ प्रभावी हैं।

Health Benefits Of Giloy in hindi – गिलोय का सेवन कैसे करें

आयुर्वेद के अनुसार, गिलोय का सेवन या तो पाउडर के रूप में किया जा सकता है या काढ़ा या जूस के रूप में भी किया जा सकता है। आजकल यह कैप्सूल और रेडीमेड पाउडर में भी उपलब्ध है। गिलोय को त्वचा की समस्याओं के लिए पेस्ट के रूप में भी ऊपर से लगाया जाता है।

गिलोय की नियमित खुराक एक बार में एक चम्मच है, जिसे दिन में दो बार लिया जाता है। स्वास्थ्य समस्या के प्रकार के आधार पर खुराक भिन्न हो सकती है।

गिलोय का जूस कैसे तैयार करें

गिलोय का जूस बनाने के लिए आपको पौधे की कुछ साफ, कटी हुई शाखाओं की जरूरत होती है। इन बारीक कटी हुई शाखाओं को एक कप पानी के साथ, हरे तरल पेस्ट में ब्लेंड करें। अब इस हरे पेस्ट को छानकर गिलोय का जूस बना लें।

Health Benefits Of Giloy in hindi – गिलोय के फ़ायदे स्वास्थ्य के लिए

गिलोय एक मजबूत इम्युनिटी बूस्टर, एंटी-टॉक्सिक, एंटीपीयरेटिक (जो बुखार को कम करता है), एंटी-इंफ्लेमेटरी, एंटीऑक्सीडेंट है। यह शास्त्रीय दवा सभी स्वास्थ्य विसंगतियों का अंतिम उत्तर है।

10 Health Benefits Of Giloy in hindi – गिलोय के फ़ायदे इम्युनिटी को मज़बूत करना 

1. Giloy ke fayde पुराने बुखार में 

आयुर्वेद में बुखार के दो कारण होते हैं- अमा (शरीर में खराब पाचन के कारण विषाक्त पदार्थ रह जाता है) और दूसरा कुछ बाहरी कणों के कारण होता है। गिलोय पुराने, बार-बार होने वाले बुखार में अद्भुत काम करता है।

यह एक विरोधी भड़काऊ, ज्वरनाशक जड़ी बूटी है जो संक्रमण से लड़ने के लिए आपकी प्रतिरक्षा को बढ़ावा देने में मदद करती है और जल्दी ठीक होने में भी मदद करती है। गिलोय में ज्वरघना ( ज्वरनाशक ) गुण होता है जो बुखार को कम करता है। गिलोय का इस्तेमाल करने के लिए  – 2-3 बड़े चम्मच गिलोय का रस और इतना ही पानी लें। इन्हें अच्छी तरह मिला लें। इस मिश्रण को रोजाना सुबह खाली पेट पिएं।

2. Giloy ke fayde डेंगू बुखार के लिए

गिलोय एक ज्वरनाशक जड़ी बूटी है। यह डेंगू बुखार में प्लेटलेट काउंट में सुधार करता है और जटिलताओं की संभावना को कम करता है। गिलोय के नियमित सेवन से डेंगू के दौरान रोग प्रतिरोधक क्षमता में सुधार होता है और शीघ्र स्वस्थ होने में भी मदद मिलती है।

बेहतर परिणाम के लिए गिलोय के रस को तुलसी के कुछ पत्तों के साथ उबालें और प्लेटलेट काउंट बढ़ाने के लिए पिएं। गिलोय को प्रयोग गिलोय के ताजे डंठल का रस निकालकर उसमें 5-7 तुलसी के पत्ते मिलाकर 1/2 कप पानी में उबालकर रोजाना पीएं। यह प्लेटलेट काउंट बढ़ाने में मदद करता है।

3. Health Benefits Of Giloy परागज ज्वर में 

गिलोय परागज ज्वर में बहुत उपयोगी है जिसे एलर्जिक राइनाइटिस भी कहा जाता है। यह बहती नाक, छींकने, नाक में रुकावट, आंखों से पानी आना जैसे लक्षणों को कम करता है। तापमान को कम करने के लिए आधा चम्मच गिलोय पाउडर को शहद के साथ मिलाकर खाने से पहले खाएं। तापमान को कम करने के लिए आधा चम्मच गिलोय पाउडर को शहद के साथ मिलाकर खाने से पहले खाएं।

4. Giloy ke fayde कोरोना-वायरस संक्रमण के लिए

गिलोय प्रतिरक्षा को बढ़ा सकता है इसलिए यह विभिन्न बुखारों के लिए विशेष रूप से कोरोना संक्रमण जैसे वायरल बुखार के लिए उपयोगी हो सकता है। हालांकि इस बात का कोई सबूत नहीं है कि गिलोय कोरोना संक्रमण को ठीक कर सकता है लेकिन इससे लड़ने के लिए यह आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ा सकता है। कुछ वैज्ञानिक अध्ययनों के अनुसार, परिणाम कोरोना संक्रमण को नियंत्रित करने के लिए आशाजनक परिणाम दिखाते हैं।

गिलोय काढ़ा या गिलोय का जूस आप दिन में दो बार 4-6 हफ्ते तक ले सकते हैं। कुछ अध्ययनों से पता चलता है कि गिलोय और अश्वगंधा का संयोजन आपको इस घातक संक्रमण से बचा सकता है।

5. Giloy ke fayde ब्लड शुगर लेवल को नियंत्रित में

आयुर्वेद में, गिलोय को ‘मधुनाशिनी’ के रूप में जाना जाता है, जिसका अर्थ है ‘शर्करा को नष्ट करने वाली’। यह इंसुलिन के उत्पादन को बढ़ाने में मदद करता है जो अंततः रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करता है। गिलोय मधुमेह की जटिलताओं जैसे अल्सर, गुर्दे की समस्याओं के लिए भी उपयोगी है। इसका इस्तेमाल – 1/2 चम्मच गिलोय पाउडर दिन में दो बार लंच और डिनर के बाद पानी के साथ लें।

6. Giloy ke fayde इम्युनिटी बढ़ाने में

यह जड़ी बूटी हमारे शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली को सक्रिय करती है और एक व्यक्ति में जीवन शक्ति को बढ़ाती है। गिलोय का रस या कड़ा अपने आहार में दिन में दो बार शामिल करें, इससे आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता में सुधार हो सकता है।

यह एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होता है और शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने में मदद करता है। गिलोय का जूस आपकी त्वचा को डिटॉक्सीफाई भी करता है और आपकी त्वचा को भी निखारता है।

गिलोय का उपयोग लीवर की बीमारियों, यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन और दिल से जुड़ी समस्याओं के लिए भी किया जाता है। कैसे इस्तेमाल करे – 2-3 चम्मच गिलोय का रस लें। इसमें उतनी ही मात्रा में पानी डालकर मिला लें। अपनी प्रतिरक्षा को बढ़ावा देने के लिए दिन में एक या दो बार भोजन से पहले इसे पियें।

7. Giloy ke fayde पाचन सुधार करने में 

गिलोय पाचन में सुधार करता है और पाचन संबंधी समस्याओं जैसे दस्त, कोलाइटिस, उल्टी, अति अम्लता आदि को कम करता है। ऐसे करें इस्तेमाल- आधा चम्मच गिलोय पाउडर को 1 गिलास गुनगुने पानी में दिन में दो बार लें।



8. Giloy ke fayde तनाव और चिंता को कम करने के लिए

मानसिक तनाव और चिंता को कम करने के लिए गिलोय एक बेहतरीन उपाय है। यह आपके शरीर को शांत करता है। गिलोय में याददाश्त और संज्ञानात्मक कार्यों को बढ़ाने की भी शक्ति होती है। यूज़ 2-3 चम्मच गिलोय का रस और उतनी ही मात्रा में पानी लें। इसे दिन में एक बार सुबह खाली पेट पियें।

9. Giloy ke fayde गठिया और गाउट का इलाज करता है

गिलोय में एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटी-आर्थराइटिक गुण होते हैं जो गठिया और गाउट को कम करने में मदद करते हैं। जोड़ों के दर्द के लिए गिलोय के चूर्ण को गर्म दूध के साथ सेवन करें। जोड़ों के दर्द में गिलोय पाउडर को गर्म दूध के साथ सेवन करें।

10. Health Benefits Of Giloy आंखों की रोशनी में सुधार

दृष्टि में सुधार भारत के कई हिस्सों में, गिलोय का पौधा आंखों पर लगाया जाता है क्योंकि यह दृष्टि स्पष्टता को बढ़ाने में मदद करता है। आपको बस इतना करना है कि गिलोय पाउडर को पानी में उबाल लें, इसे ठंडा होने दें और पलकों पर लगाएं।

गिलोय को आँखों के ऊपर से लगाने पर आंखों की रोशनी बढ़ाने में बहुत असरदार होता है। यह आमतौर पर पंचकर्म में प्रयोग किया जाता है। आपको बस गिलोय पाउडर या गिलोय के पत्तों को पानी में उबालना है, ठंडा होने पर इसे आंखों पर लगाएं।

11. Giloy ke fayde बढ़ती उम्र के लक्षणों को कम करता है

गिलोय के पौधे में एंटी-एजिंग गुण होते हैं जो काले धब्बे, फुंसियों, महीन रेखाओं और झुर्रियों को कम करने में मदद करते हैं। यह आपको वह निर्दोष, चमकती त्वचा देता है जो आप हमेशा से चाहते थे।

12. Giloy ke fayde दमा के लक्षणों को कम करता है

अस्थमा के कारण सीने में जकड़न, सांस लेने में तकलीफ, खाँसी, घरघराहट आदि होती है जिससे ऐसी स्थिति का इलाज करना बहुत मुश्किल हो जाता है। फोर्टिस अस्पताल के डॉ. मनोज के. आहूजा कहते हैं, “गिलोय की जड़ को चबाने या गिलोय का रस पीने से अस्थमा के रोगियों को मदद मिलती है और अक्सर विशेषज्ञ इसकी सलाह देते हैं।”

13. गिलोय के फायदे गठिया के लिए

गिलोय में एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटी-आर्थराइटिक गुण होते हैं जो गठिया और इसके कई लक्षणों के इलाज में मदद करते हैं। जोड़ों के दर्द के लिए गिलोय के तने के चूर्ण को दूध में उबालकर सेवन किया जा सकता है”, डॉ. आशुतोष कहते हैं। इसका उपयोग अदरक के साथ रूमेटोइड गठिया के इलाज के लिए किया जा सकता है।


इन्हे भी पढ़े 


14. बालों के लिए गिलोय के फायदे

गिलोय को इसके उपचार और सुरक्षात्मक गुणों के कारण आयुर्वेदिक प्रणाली में रामबाण जड़ी बूटी के रूप में जाना जाता है। कई स्वास्थ्य रोगों के लिए फायदेमंद गिलोय बालों की सेहत के लिए भी फायदेमंद हो सकता है। यह न केवल किसी की प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ाता है बल्कि आपके शरीर, त्वचा और बालों को फिर से जीवंत करने में भी मदद करता है।

Giloy ke fayde for hair

बालों के झड़ने के कारण:

  1. पर्यावरण प्रदूषण
  2. तनाव
  3. खराब पोषण
  4. हार्मोनल असंतुलन
  5. थायरॉयड समस्याएं
  6. धूम्रपान
  7. हीमोग्लोबिन का निम्न स्तर, आदि।

गिलोय कैसे मदद करता है

  • गिलोय में रक्तशोधक गुण होते हैं जो त्वचा/खोपड़ी और बालों के स्वास्थ्य के लिए अच्छे हो सकते हैं।
  • इसमें रसायन या एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं।
  • इसमें पोषक तत्व और खनिज होते हैं जो खोपड़ी और बालों के स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद हो सकते हैं।

प्रकृति में बहुमुखी, गिलोय कई स्वास्थ्य समस्याओं को दूर करने में मदद कर सकता है। गिलोय तनाव के स्तर को कम करने से लेकर शरीर को ठंडा रखने तक कमजोर प्रतिरक्षा को बढ़ाने में भी सहायक है। इसमें एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं जो बालों की समस्याओं में मदद कर सकते हैं और बालों के स्वास्थ्य को बनाए रख सकते हैं।

गिलोय में रक्तशोधक और सूजन-रोधी गुण होते हैं। सूजन का मुकाबला करने में मदद करने की अपनी क्षमता के कारण, गिलोय बालों की समस्याओं, रूसी और अन्य खोपड़ी और बालों की बीमारियों से निपटने में मदद कर सकता है।

गिलोय को पारंपरिक रूप से डिटॉक्सिफायर के रूप में उपयोग किया जाता है जो शरीर से अशुद्धियों को दूर करने में मदद कर सकता है जो त्वचा और बालों के स्वास्थ्य में सुधार करने में मदद कर सकता है। अशुद्धियों से मुक्त होने पर त्वचा और बाल बेहतर बन सकते हैं।

15. Giloy ke fayde for skin – Giloy ke fayde in hindi

गिलोय एक अच्छी तरह से प्रलेखित जड़ी बूटी है जो प्रतिरक्षा को बढ़ावा देने में मदद करती है। यह एंटीऑक्सिडेंट से भरा हुआ है जो मुक्त कणों से लड़ता है, आपकी कोशिकाओं को स्वस्थ रखता है और विभिन्न बीमारियों से बचाता है।

Giloy ke fayde for skin

giloy ke fayde for skin गिलोय के विभिन्न त्वचा लाभ नीचे हैं

आयुर्वेद की प्रणाली में, गिलोय को रक्तशोधक गुणों के साथ जिम्मेदार ठहराया जाता है जो रक्त (रक्तशोधक) से अशुद्धियों को दूर करने में सहायता करता है जो त्वचा की एलर्जी, खुजली, काले घेरे, मुँहासे और एक्जिमा जैसी कई त्वचा रोगों से निपटने में मदद करता है।

यह रक्त को शुद्ध करने, कीटाणुओं और बैक्टीरिया से लड़ने और निर्दोष त्वचा को नियंत्रित करने में मदद करने के लिए एक प्राकृतिक उपचार माना जाता है।

गिलोय को एंटी-एजिंग गुणों के लिए भी जिम्मेदार ठहराया जाता है। यह पिंपल्स, डार्क स्पॉट्स और फाइन लाइन्स से निपटने में मदद कर सकता है। इसके अलावा, आयुर्वेद के अनुसार, गिलोय को एक व्याह-से समूह में रखा गया है, जिसके बारे में माना जाता है कि इसमें एंटी-एजिंग गुण होते हैं जो झुर्रियों को कम करने और प्राकृतिक रूप से चमकती त्वचा प्रदान करने में सहायक हो सकते हैं।

इसके कई गुना चिकित्सीय गुणों और लीवर के स्वास्थ्य पर लाभकारी प्रभाव के कारण, यह त्वचा को डिटॉक्सीफाई करने में मदद करता है। यह त्वचा की गुणवत्ता में सुधार करने में मदद कर सकता है और इसे स्पष्ट, कोमल और चमकदार बनाने में मदद करता है।

आपकी त्वचा को फिर से सुन्दर और जवां करने में शक्तिशाली, गिलोय आपकी त्वचा को युवा, ताजा और सुंदर बनाए रखने में मदद कर सकता है। त्वचा के लाभ के लिए गिलोय का सेवन आंवला और हरिद्रा के साथ किया जा सकता है। गिलोय के तने या पत्तियों का लेप त्वचा पर भी लगा सकते हैं।


इन्हे भी पढ़े 


Giloy Ke Fayde से संबंधित FAQ  

1. गिलोय का जूस पीने से क्या होता है?

ताजा गिलोय का रस पीने से प्रतिरक्षा में सुधार करने में मदद मिलती है और इसकी ज्वरनाशक गतिविधि के कारण बुखार को प्रबंधित करने के लिए इसका उपयोग किया जा सकता है। यह प्लेटलेट काउंट भी बढ़ाता है और डेंगू बुखार में मदद कर सकता है। त्वचा की विभिन्न समस्याओं के लिए गिलोय पाउडर, कड़ा (चाय), या गोलियों का भी उपयोग किया जा सकता है क्योंकि यह शरीर से विषाक्त पदार्थों को निकालने में मदद करता है।

2. गिलोय कितने दिन तक पीना चाहिए?

गिलोय केवल 30 दिन तक ही पीना चाहिए।

  • गिलोय का रस – 2-3 चम्मच रस, दिन में एक या दो बार।
  • गिलोय चूर्ण – -½ छोटा चम्मच दिन में दो बार।
  • गिलोय गोली – 1-2 गोली दिन में दो बार।
  • गिलोय कैप्सूल – 1-2 कैप्सूल दिन में दो बार।
  • गिलोय का अर्क – 1 चुटकी दिन में दो बार।

3. गिलोय जूस कब पीना चाहिए?

2-3 चम्मच गिलोय का रस लें। इसमें इतना ही पानी मिलाकर सुबह खाली पेट दिन में एक बार पिएं।

4. गिलोय कितने रुपए किलो है?

गिलोय 15 – 20 रुपए किलो है।

5. क्या गिलोय गर्मी करती है?

अगर आप इसको 30 दिन से ज़्यादा प्रयोग करते हो तो यह शरीर में गर्मी पैदा कर सकती है।

6. गिलोय के क्या क्या फायदे हैं?

  1. Giloy रोग क्षमता को बढाती है।
  2. टेंशन को दूर करती है।
  3. गठिया के रोगियों के लिए बहुत ही लाभकारी है।
  4. अस्थमा के मरीजों को ठीक करता है
  5. पाचनतंत्र को स्ट्रांग बनाता है
  6. बुखार को दूर करता है।

7. गिलोय की गोली कब खानी चाहिए?

गिलोय घन वटी की 1-2 गोली दिन में दो बार हल्का भोजन करने के बाद शहद के साथ लें।

8. गिलोय को हिंदी में क्या कहते हैं?

आयुर्वेद में इसको कई नामो से पुकारा जाता है यथा अमृता, गुडुची, छिन्नरुहा, चक्रांगी, आदि।

9. गिलोय में कौन कौन से विटामिन होते हैं?

कैल्शियम उच्चतम स्तर (102.233 पीपीएम) पर पाया जाता है, इसके बाद आयरन (26.058 पीपीएम) और फॉस्फोरस (24.816 पीपीएम) होता है। अन्य ट्रेस तत्व जैसे मैग्नीशियम (12.242 पीपीएम), जस्ता (7.342 पीपीएम), और तांबा (3.733 पीपीएम) बहुत कम अनुपात में उपलब्ध हैं।


इन्हे भी पढ़े 

  1. रुका हुआ पीरियड लाने की दवा -औरत की हर समस्या का समाधान
  2. Height Badhane Ke Liye Exercise -लंबाई बढ़ाने के BEST 10 एक्सरसाइज – Height Badhane Ki Exercise
  3. Pregnancy se bachne ke upay प्रेग्नेंसी रोकने के घरेलू तरीके
  4. Health Benefits Of Drinking Beer बियर पीने के फायदे और नुक्सान
  5. Muh Ke Cancer Ka ilaj मुँह के रोग की BEST संपूर्ण जानकारी

10. गिलोय के पत्ते का इस्तेमाल कैसे करें?

गिलोय के पत्ते सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होते हैं। सामान्य स्वास्थ्य में सुधार के साथ-साथ गठिया के प्रबंधन के लिए गिलोय की ताजी पत्तियों को चबा सकते हैं। आप त्वचा रोगों के लिए भी गिलोय के रस का सेवन कर सकते हैं क्योंकि यह शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने में मदद करता है। इसके अलावा, गिलोय के पत्तों को उबालकर काढ़ा पीने से गठिया, बुखार और अपच को नियंत्रित करने में मदद मिलती है।

गिलोय के पत्तों को काढ़े के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है जो आमतौर पर अपच, एनोरेक्सिया और मतली की स्थिति में दिया जाता है क्योंकि इसकी उष्ना (गर्म), दीपन (भूख बढ़ाने वाला) और पचाना (पाचन) गुणों के कारण पाचन में सुधार होता है।

पत्तियों का उपयोग पेस्ट के रूप में किया जाता है जिसे घावों के साथ-साथ खुजली, जलन या आंखों की लाली जैसी समस्याओं के लिए भी लगाया जा सकता है।

यह इसके कषाय (कसैले) और रोपना (उपचार) गुणों के कारण है। गिलोय के पत्तों का पेस्ट बालों की समस्याओं को रोकने के लिए स्कैल्प पर भी लगाया जा सकता है जैसे कि इसके कटु (तीखे) और कषाय (कसैले) गुणों के कारण बालों का झड़ना इसमें उपयोग कर सकते है।

11. गिलोय से मोटापा कैसे कम करें?

गिलोय के रस के सबसे महत्वपूर्ण औषधीय गुणों में से एक वजन घटाने में सहायता करना है। वास्तव में, गिलोय का रस शरीर की प्रतिरक्षा और चयापचय को बढ़ावा देने के लिए भी जाना जाता है, जिससे वजन कम होता है। इस औषधीय पौधे का यह रस आपके पेट के स्वास्थ्य में भी सुधार करता है, जो इसे वजन घटाने के लिए काफी लोकप्रिय उपाय बनाता है।

 12. वजन घटाने के लिए गिलोय का सेवन कैसे करें?

यह समझना महत्वपूर्ण है कि गिलोय अन्य पौधों जैसे एलोवेरा या शिलाजीत के साथ मिलकर पाचन में सहायता करता है और वजन कम करने में मदद करता है। अगर आप वजन घटाने के लिए गिलोय की जड़ी-बूटी आजमाना चाहते हैं,

तो आप आधा ग्राम गिलोय का रस ले सकते हैं और उसमें एक चुटकी शहद मिला सकते हैं। इस ड्रिंक को आप सुबह खाली पेट पी सकते हैं आप अपने स्वाद के अनुसार इसका सेवन छाछ के साथ भी कर सकते हैं।

13. गिलोय का फल कैसे होता है?

गिलोय india में लगभग सभी जगहों पर उपलब्ध है। इसकी बेल जल्दी से लंबी होती है। गिलोय के पत्ते पान के पत्ते के आकार के होते हैं  इसके फूल छोटे गुच्छों में होते हैं और इसके फल मटर जैसे होते है, यह गुच्छों में लगते हैं जो पकने के बाद लाल रंग के हो जाते हैं।

गिलोय के काढ़े में पानी, आंवला, अदरक, काला नमक, शहद मिलाया जाता है

Giloy ke nuksan in hindi – गिलोय के दुष्प्रभाव

गिलोय जड़ी बूटी का कोई साइड इफेक्ट नहीं होता है। हालाँकि, जब गिलोय को अन्य मधुमेह की दवाओं के साथ लिया जाता है तो इससे रक्त शर्करा का स्तर कम हो सकता है। गिलोय प्रतिरक्षा प्रणाली को अधिक सक्रिय होने का कारण बन सकता है।

जो ऑटोइम्यून बीमारियों जैसे संधिशोथ के लक्षणों को खराब कर सकता है। स्तनपान कराने वाली माताओं के लिए इसका प्रभाव अज्ञात है। इसलिए, सुरक्षित पक्ष पर रहना और स्तनपान के दौरान गिलोय से बचना अच्छा है

अस्वीकरण:

इस साइट पर शामिल जानकारी केवल शैक्षिक उद्देश्यों के लिए है और इसका उद्देश्य स्वास्थ्य देखभाल पेशेवर द्वारा चिकित्सा उपचार का विकल्प नहीं है। अद्वितीय व्यक्तिगत जरूरतों के कारण, पाठक को पाठक की स्थिति के लिए जानकारी की उपयुक्तता निर्धारित करने के लिए अपने चिकित्सक से परामर्श करना चाहिए।

ये भी पढ़े


  1. आँखों की कमजोरी के लक्षण – आँखों के रोग की संपूर्ण जानकारी
  2. Yoga Ke Fayde – Yoga Karne Ke Fayde – योगा के फायदे
  3. Gaal Fulane Ki dawa – Pichke Gaal ke liye tablet – पिचके गाल भरने के उपाय
  4. नीबू से हानि – lemon side effects – नींबू के नुकसान
  5. Nimbu Ke Fayde – lemon in hindi – नींबू के फ़ायदे
  6. दिल की बीमारी का इलाज 6 प्राकृतिक तरीके से
  7. Body Wash Vs Soap साबुन Vs बॉडी वाश BEST जानकारी


दोस्तों आपको Giloy ke fayde – Health Benefits Of Giloy in hindi – गिलोय का जूस पीने से क्या फायदा ये पोस्ट कैसी लगी। हमें comment करके अपने विचार दे। हमें बहुत ख़ुशी होगी।

इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ Share ज़रूर करें। आपके पास कोई लेख है तो आप हमें Send कर सकते है।

हमारी id: radarhindi.net@gmail.com, Right Side में जो Bell Show हो रही है उसे Subscribe कर ले। ताकि आप को समय समय पर Update मिलता रहे।

Thanks For Reading

Leave a Comment