माँ का प्यार बेटी के लिए Maa Aur Beti Ki Kahani

Maa Aur Beti Ki Kahani , Beti Aur Maa ki Story In Hindi माँ और बेटी की कहानी – माँ का प्यार बेटी के लिए माँ – बाप की आँखों में दो बार आंसू आते है। लड़की घर छोड़े तब और लड़का मुँह मोड़े तब। बेटियाँ माँ की सबसे अच्छी दोस्त अच्छी दोस्त होती है। ठंड के दिन है सब रजाई में दुबके हुए है माँ रसोई में फिर भी कंपकंपाते हाथो से खाना बना रही है ,उसकी बेटी कविता ऑफिस से आने वाली है। घड़ी में 6 बजे का घंटा बजा तो माँ का हाथ और तेज़ी से चलने लगा।

सब्जी गैस पर आटे से सने हाथों से एक हाथ से बाल हटाती और रोटी बेल रही है दरवाज़े की घंटी बजी..माँ गैस को स्लो कर दौड़ी दरवाज़े की तरफ़….बेटी के लिए दरबाजा खोलने। बेटी ने कहा माँ धीरे – धीरे आया करो… गिर जाते तो लग जाती आपको….मैं इंतजार कर सकती हूं। मां का एक हाथ पकड़ दरवाजे से अंदर लाती है वेलन हाथ में से ले कहती है यह क्या हालत बना ली है। अपनी मैं आकर कर लेती सब मां के बालों पर चिपका आटा कविता अपने हाथों से हटाती है।

अच्छा मां आप बैठो मैं चाय बना के लाती हूं देखो गर्मागर्म समोसे लाई हूं। यह दो भाभी को भी देकर आती हूं। भाभी एक ही घर में अलग रहती हैं अलग खाना बनाती है मां से बात नहीं करती है फिर भी कविता बराबर उन्हें मानती है। चाय बना दो कप में चाय लाती है और दोनों मां बेटी बैठकर समोसा खाते हुए बात करती है मां कहती है बेटी अब तुझे शादी कर लेनी चाहिए।

मैं बूढी हो चली हूं जाने कब संसार से विदा ले लूं। तेरे पापा होते तो मैं यूं चिंता ना करती। कब तक तू यूं ही अकेली रहेगी नौकरी कर गुजारा करती रहेगी। कविता उठकर पीछे से मां के गले में हाथ डालती है प्यार से कहती है मां मैं तुझे बुरी लगती हूं। क्या क्यों मुझे भगा रही हो मेरे बाद तुम्हारा ध्यान कौन रखेगा। भैया तो भाभी के साथ अलग रहते हैं। 

Maa Aur Beti Ki Kahani

Maa Aur Beti Ki Kahani – माँ और बेटी की कहानी 

मैं शादी नहीं करूंगी मां तुम्हें छोड़कर कहीं नहीं जाऊंगी। मां उसे अपने सामने खींचती है पीछे से कविता देख अमित कब तक तेरा इंतजार करेगा। तुझसे प्यार करता है उसकी तो सोच तूने उसे 2 साल से यूं ही उलझा रखा है। उसके भी तो अरमान होंगे कुछ अरे बुढ़ापे में करेगी क्या शादी 25 साल की होने को आई है।

मेरे लिए क्यों अपनी जिंदगी से खुशियों को दूर रखे हुए हैं। मां मैं खुश हूं कविता बोली और आपको दुखी कहां से लगती हूँ रही बात अमित की तो मैंने उसे काफी समझाया है कि तू अच्छी सी मां की पसंद की लड़की से शादी कर ले पर वह मानता नहीं है।

कहता है पूरी जिंदगी इंतजार करेगा मां तुम ही बताओ मैं कैसे उसे उसके मां-बाप से छीन सकती हूं। कैसे तुम्हें अकेला छोड़ सकते हैं अमित के मां-बाप क्या आपको मेरे साथ रहने देंगे। वह दकियानूसी विचारों के हैं उनको कुछ भी मान्य नहीं होगा। एक शादी से दो परिवार बिखर जाएंगे क्या यह ठीक होगा माँ ??

अमित को मैं सारी खुशियां नहीं दे पाऊंगी वह अपने मां बाप को छोड़कर मेरे साथ और आपके साथ रहने की बात करता है। भैया के बिना आप क्या महसूस करती हो मुझे पता है मैं नहीं चाहती कि अमित भी ऐसा करें। मां की आंखों में आंसू आ जाते हैं बेटी का प्यार त्याग उनकी परवाह करना देख कर खुद को बेबस महसूस करती है।

याद आ जाता है कविता का बचपन उसके पिता कविता को वो जब भी प्यार करते थे। मासूम सी कविता कहती थी मां मैं बड़ी होकर तेरा ख्याल रखूंगी। तुझे छोड़कर नहीं जाऊंगी कभी और उसने वो बातें सच में सच कर दिखाई। दुनिया कहती है कि मां महान होती है ममता की मूरत होती है।

READ ALSO :-

  1. एक विचार आपकी जिंदगी बदल सकता है Motivational Story in Hindi
  2. कैरोली टेक्सस की कहानी Karoly Takacs Story
  3. Sacha Mitra Story In Hindi सच्चे मित्र की कहानी
  4. Samay Ka Mahatva समय का महत्व एक अद्भुत स्टोरी
  5. बेस्ट 50 सुविचार और मोटिवेशनल वचन Inspirational quotes in hindi
  6. कबीर दास जी के 32 दोहे Kabir Das Ke Dohe with Meaning
  7. Aaj Ka Suvichar in Hindi With Image आज का विचार जो बदल दे आपकी लाइफ

 माँ और बेटी की कहानी – माँ का प्यार बेटी के लिए Maa Aur Beti Ki Kahani  पढ़कर कैसे लगी हमे कमेंट करके जरूर बताएं। 

Thanks For Reading

2 thoughts on “माँ का प्यार बेटी के लिए Maa Aur Beti Ki Kahani”

  1. Nmskar ji
    आपने मां और बेटी की यह कहानी ठीक लिखी है, सब के विचार ऐसे ही शुद्ध हों

    Reply

Leave a Comment