Rahul Sankrityayan Biography in hindi – राहुल सांकृत्यायन का जीवन परिचय

Rahul Sankrityayan Biography in hindi – श्री राहुल सांकृत्यायन का जीवन परिचय इसके बारे में हम आज एक नज़र डालेंगे।

Rahul Sankrityayan Biography in hindi
                   Rahul Sankrityayan Biography in hindi

Rahul Sankrityayan Biography in hindi – श्री राहुल सांकृत्यायन का जीवन परिचय 

श्री राहुल सांकृत्यायन का नाम आधुनिक हिंदी साहित्य करो में बड़े आदर के साथ लिया जाता है वह घुमक्कड़ पर्वती वाले थे उन्होंने अपनी इसी प्रवृत्ति के कारण हिंदी साहित्य को समृद्ध किया है।

श्री राहुल सांकृत्यायन  का जन्म 9 अप्रैल 1893 में गांव पंदहा, जिला आजमगढ़ (उत्तर प्रदेश) में हुआ। उनका असली नाम केदार पांडेय था उन्होंने अपनी आरंभिक शिक्षा गांव के पाठशाला में प्राप्त की।

तत्पश्चात काशी, आगरा और लाहौर में उच्च शिक्षा ग्रहण की। सन 1930 में श्रीलंका जाकर बौद्ध धर्म ग्रहण कर लिया था। तब से ही ये केदार पांडेय से राहुल सांकृत्यायन बन गए थे।

उन्होंने हिंदी के अतिरिक्त पाली, पाकृत, अंग्रेजी, संस्कृत, अपभ्रंश, तिब्बती, चीनी, जापानी, रूसी, उर्दू, फ़ारसी आदि अनेक भाषाओं का ज्ञान प्राप्त किया। इसलिए उन्हें ‘महापंडित’ कहा जाता था। मां भारती के इस सपूत की मृत्यु 14 अप्रैल 1963 हुई थी। उन्होंने आजीवन साहित्य की रचना की।

Rahul Sankrityayan ki Rachnaye in hindi – राहुल सांकृत्यायन की रचनाएँ

श्री राहुल सांकृत्यायन ने एक सफल साहित्यकार की भांति अनेक विद्याओ पर अपनी लेखनी साधिकार चलाई। उन्होंने उपन्यास, कहानी, आत्मकथा, यात्रावृत्त, जीवनी, आलोचना, शोध आदि अनेक साहित्यिक विधाओं की रचना की है।

इतना ही नहीं, उन्होंने अनेक ग्रंथों का हिंदी अनुवाद भी किया है ‘मेरी जीवन यात्रा’(छह भाग),  ‘दर्शन – दिग्दर्शन’, ‘बाईसवीं सदी’, ‘वोल्गा से गंगा’,‘भागो नहीं दुनिया को बदलो’, ‘दिमागी गुलामी’, ‘घुमक्कड़ शास्त्र’ आदि अनेक प्रमुख रचनाएं हैं।

साहित्य के अतिरिक्त दर्शन, राजनीति, धर्म, इतिहास, विज्ञान आदि विषयों पर भी उनकी लगभग 150 रचनाएं उपलब्ध है। राहुल सांकृत्यायन ने हिंदी साहित्य की छुपी हुई सामग्री को ढूंढ कर साहित्य का उद्धार कर अत्यंत महत्वपूर्ण कार्य किया है।

 राहुल सांकृत्यायन की साहित्यिक विशेषताएं – Rahul Sankrityayan Biography in hindi 

यात्रा वृत्त लेखन-कार्य में राहुल सांकृत्यायन जी का महत्वपूर्ण योगदान रहा है उन्होंने घुमक्कड़ी शास्त्र की रचना की। इसमें उन्होंने घुमक्कड़ी से होने वाले लाभों का सविस्तार वर्णन किया है।

उन्होंने यात्रा वृत्त पर प्रकाश डालते हुए मंजिल के स्थान पर यात्रा को ही घुमक्कड़ का उद्देश्य बताया है कहने का भाव है कि मंजिल पर पहुंचने से पहले यात्रा करते समय जो अनुभव होते हैं, वे भी अत्यंत महत्वपूर्ण होते हैं।

घुमक्कड़ी में मनोरंजन, ज्ञान वर्धन एवं अज्ञात स्थानों की जानकारी के साथ-साथ भाषा एवं संस्कृति का भी आदान-प्रदान होता है। घुमक्कड़ी से मनुष्य साहसी और संघर्षशील भी बनता है। राहुल जी ने विभिन्न स्थानों के भौगोलिक वर्णन के

अतिरिक्त वहां के जन – जीवन की का सुंदर चित्रण किया है।इसे ही यदि राहुल जी के यात्रा वृतों की महत्वपूर्ण विशेषता कहें तो कोई अतिशयोक्ति नहीं होगी।

राहुल सांकृत्यायन की भाषा – शैली – Rahul Sankrityayan in hindi

राहुल जी को विभिन्न भाषाओं का गहन ज्ञान था हिंदी के प्रति उनका विशेष लगाव था उन्होंने अपनी रचनाओं में शुद्ध साहित्यिक हिंदी का प्रयोग किया है, किंतु यात्रावृतों में विभिन्न – विभिन्न स्थानों की बोलियो एवं भाषाओं के शब्दों का प्रयोग प्रसंगानुकूल किया है।

इससे भाषा में व्यवहारिकता रोचकता का समावेश हुआ है लोक – प्रचलित मुहावरों का प्रयोग करके भाषा को सारगर्भित रूप भी प्रदान किया है सुगठित वाक्य – रचना के कारण भाषा प्रभावशाली बन पड़ी है गंभीर भावों विचारों को सरलतम भाषा में व्यक्त करना श्री राहुल जी की भाषा – शैली की प्रमुख विशेषता है।

ये भी पढ़े 


  1. Alok Dhanwa Biography in hindi – अलोक धन्वा का जीवन परिचय
  2. Jabir Hussain Biography In Hindi – जाबिर हुसैन का जीवन परिचय
  3. Suryakant Tripathi Nirala In Hindi | सूर्यकांत त्रिपाठी निराला
  4. Shamsher Bahadur Singh Biography In Hindi | शमशेर बहादुर सिंह का जीवन परिचय
  5. Shyamacharan Dubey – Shyama Charan Dubey Biography in Hindi
  6. B R Ambedkar Short Biography – डॉ. अंबेडकर जीवन परिचय
  7. krishna Sobti in Hindi – Krishna Sobti Biography in Hindi
  8. Premchand Ka Jivan Parichay – मुंशी प्रेमचंद का जीवन परिचय


दोस्तों आपको Rahul Sankrityayan Biography in hindi – राहुल सांकृत्यायन का जीवन परिचय ये पोस्ट कैसी लगी। हमें comment करके अपने विचार दे। हमें बहुत ख़ुशी होगी। इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ Share ज़रूर करें। आपके पास कोई लेख है तो आप हमें Send कर सकते है।

हमारी id: radarhindi.net@gmail.com पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे। हमें facebook page पर फॉलो कर ले और Right Side में जो Bell Show हो रही है उसे Subscribe कर लेताकि आप को समय समय पर Update मिलता रहे।

Thanks For Reading

Leave a Comment